Bhangarh the horror place | hindi

bhangarh the horror place | hindi

भानगढ़ का क्या है आखिर रहस्य जी हाँ दोस्तों क्या अपने कभी इस बात पे गौर किया के क्यों लोग भानगढ़ के नाम से इतना डरते है क्यों भानगढ़ में कोई रहना नहीं चाहता तो आज हम आपको बताते है भानगढ़ के बारे में कुछ ऐसी बात जो आपको शायद ही पता होगी.

 

भानगढ़ का किला अमर के राजा भगवंत दास ने १५७३ में बनवाया था ३०० वर्षो तक ये खूब फलता फूलता रहा और एक दिन भानगढ़ में राजकुमति रत्नाकवती का जन्म हुआ जो की बचपन से ही रंग रूप में सबसे अलग थी रानी रत्नाकवती का रूप कुछ ऐसा था की मनो वो एक झलक में किसी को भी मोह जाती थी जैसे जैसे रानी रत्नाकवती जवान होने लगी आस पास के सभी लड़के रानी रत्नाकवती को पसंद करते थे समय यूँ ही बीत रहा था और एक दिन रानी रत्नाकवती बाजार के लिए निकल गयी जहा रानी इत्र की बोतल लेके उसे देख रही थी तभी वह खड़ा एक तांत्रिक रानी को देख रहा था और देखते देखते रानी उसे पसंद आ गयी और उस तांत्रिक ने अपनी विद्या से रानी को पाने की सोची और उस इत्र की बोतल पर वशीकरण का मन्त्र जाप किया जिससे की रानी उस तांत्रिक के वश में होने लगी पर जैसे ही रानी को किसी ने तांत्रिक की चाल बताई तो रानी बोहोत गुस्से में आ गयी और उस बोतल को रानी ने एक बड़े से पत्थर पर मर कर तोड़ दिया जैसे ही बोतल को पत्थर पर तोडा पत्थर तांत्रिक की और बढ़ने लगा और तांत्रिक को कुचल दिया इसी दौरान तांत्रिक ने पुरे भानगढ़ को श्राप दे दिया और कुछ समय ही बिता था के भानगढ़ पर हमला हो गया और सब मरे गए बाद उस दिन से मनो के सभी मरे जाने वाले लोगो की आत्मा भानगढ़ में भटकती है और किसी को भानगढ़ में बसने नहीं देती यही कारण है की भानगढ़ में सूर्यअस्त होने के बाद जाना मन है.

 

by team DKS thanks for visit

Post Author: DKS

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *